Thursday, May 23, 2024

हिमाचल में पहली बार डिप्टी सीएम बनाए जाने से 10 ही मंत्री बन सकेंगे,कांगड़ा व शिमला जिला से ज्यादा है मंत्री पद के तलबगार ।

- Advertisement -

बाघल टुडे (ब्यूरो):- हिमाचल प्रदेश में पहली बार डिप्टी सीएम का प्रयोग होने से अब 10 ही मंत्री बन सकेंगे। मंत्रिमंडल का गठन करने के लिए कांग्रेस का क्षेत्रीय और जातीय संतुलन बैठाने के लिए खूब माथापच्ची करनी पड़ेगी। विधानसभा चुनाव में बहुमत दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले कांगड़ा और शिमला जिला से मंत्री पद के तलबगार अधिक हैं।
जिला सोलन, सिरमौर, बिलासपुर, चंबा, किन्नौर के विधायकों में भी झंडी मिलने का इंतजार है। कुल्लू को मंत्री मिलने से लाहौल स्पीति की दावेदारी कमजोर पड़ जाएगी। जिला मंडी के पार्टी के सिर्फ एक ही विधायक की भी मंत्री पद के लिए लॉटरी लग सकती है।
हिमाचल प्रदेश में वैधानिक रूप से मुख्यमंत्री सहित 12 ही मंत्री बन सकते हैं। इनकी संख्या को इससे अधिक नहीं बढ़ाया जा सकता है। नादौन से विधायक बने सुखविंद्र सिंह सुक्खू को मुख्यमंत्री और हरोली से मुकेश अग्निहोत्री को उप मुख्यमंत्री बनाए जाने से हमीरपुर और ऊना जिला को और मंत्री पद नहीं मिलेगा।
सुक्खू की ताजपोशी होने से राजेंद्र राणा और आईडी लखनपाल की दावेदारी खत्म हो गई है। कांगड़ा से सुधीर शर्मा, चंद्रकुमार, संजय रत्न और आशीष बुटेल मंत्री पद के दावेदार हैं। पार्टी को दस विधायक देने वाले इस जिला का मंत्रिमंडल में क्या रुतबा होगा। इस पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं।
शिमला से मंत्री बनाने के लिए पार्टी को खूब माथापच्ची करनी पड़ेगी। यहां से विक्रमादित्य सिंह, अनिरुद्ध सिंह, रोहित ठाकुर, नंद लाल और कुलदीप सिंह राठौर दावेदारों की दौड़ में शामिल हैं। बिलासपुर से राजेेश धर्माणी को मंत्री पद मिलना लगभग तय है। सिरमौर से हर्षबर्द्धन चौहान और विनय कुमार में से एक को मंत्री बनाया जाएगा।
सोलन से धनीराम शांडिल के साथ राम कुमार चौधरी की दावेदारी भी मंत्री पद के लिए है। जिला कुल्लू से सुंदर सिंह ठाकुर को मौका मिल सकता है। सुंदर की ताजपोशी से लाहौल स्पीति से विधायक रवि ठाकुर को नुकसान उठाना पड़ सकता है। जिला चंबा से कुलदीप सिंह पठानिया भी मंत्री बन सकते हैं। जिला मंडी में नौ सीटें गंवाने वाली कांग्रेस को सिर्फ एक ही सीट पर जीत नसीब हुई है।
धर्मपुर से पार्टी प्रत्याशी चंद्रशेखर ने भाजपा के कद्दावर नेता और निवर्तमान मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के पुत्र रजत ठाकुर को हराया है। कांग्रेस सरकार के नए मंत्रिमंडल में मंडी जिला को हिस्सेदारी देने के लिए चंद्रशेखर को मंत्री पद मिलने की संभावना काफी अधिक है। कांग्रेस पार्टी को क्षेत्रीय के साथ जातीय संतुलन करने के लिए भी खूब माथापच्ची करनी पड़ेगी।
दो विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पद से नवाज कर भी कांग्रेस संतुष्ट कर सकती है। किन्नौर से विधायक जगत सिंह नेगी पहले विधानसभा उपाध्यक्ष के पद पर रह चुके हैं। ऐसे में इस बार उन्हें पदोन्नत कर विधानसभा अध्यक्ष बनाए जाने की अधिक संभावना है। नए विधायकों में से किसी एक को पार्टी उपाध्यक्ष का पद देकर उस जिला को भी सरकार में प्रतिनिधित्व मिलेगा।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

मोसम का हाल
स्टॉक मार्केट
क्रिकेट लाइव
यह भी पढ़े
अन्य खबरे
- Advertisement -